UNSC में नहीं चली पाक को कोई चाल, चीन के अलावा किसी ने नहीं दिया साथ

यूएनएससी में कश्मीर

नई दिल्ली। चीन ने एक बार फिर यूएनएससी में कश्मीर मामले को उठाया। हालांकि चीन ने ऐसा अपने दोस्त पाकिस्तान के कहने पर किया। हालांकि इस मुद्दे पर चीन और पाकिस्तान को किसी अन्य दूसरे देश का साथ नहीं मिला।

चीन के इस कदम का यूएनएससी के स्थाई सदस्यों फ्रांस, अमेरिका, ब्रिटेन और रूस के साथ 10 सदस्यों ने विरोध किया और कहा कि यह मामला यहां उठाने की जरूरत नहीं है। बता दें कि चीन हमेशा कश्मीर मामले में पाकिस्तान की नीच हरकतों को छिपाता रहा है।

चीन ने पाकिस्तान की अपील पर रखा प्रस्ताव

चीन ने कश्मीर का यह मामला यूएनएससी की मीटिंग के दौरान उठाया, जिसका स्थाई सदस्यों ने विरोध किया। चीन ने यह प्रस्ताव पाकिस्तान की अपील पर रखा था, जिसके लिए 24 दिसंबर 2019 की तारीख तय की गई थी। लेकिन 24 दिसंबर को यूएनएससी की बैठक नहीं हो पाई थी।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के दूत सैयद अकबरुद्दीन ने कहा कि हमें खुशी है कि संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के प्रतिनिधियों को ओर से कश्मीर पर लगाए गए बेबुनियाद आरोपों की असलीयत सामने आ गई। पाकिस्तान अपने मंसूबों में कामयाबी के लिए हमेशा चीन का इस्तेमाल करता है।