SCO समिट में पीएम मोदी की खरी-खरी, पाकिस्तान के सामने ही कट्टरता को बताया अफगानिस्तान की बर्बादी की वजह

PM Modi told fundamentalism the biggest enemy in SCO summit

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ताजिकिस्तान की राजधानी दुशाम्बे में हो रहे शंघाई सहयोग संगठन (SCO) समिट को शुक्रवार को वर्चुअली संबोधित किया। समिट में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और चीन के राष्ट्रपति शी-जिनपिंग की मौजूदगी में पीएम मोदी ने कट्टरपंथ पर हमला बोला।

समिट में पीएम मोदी ने कहा कि मेरा मानना है इस क्षेत्र में सबसे बड़ी चुनौतियां शांति, सुरक्षा और भरोसे की कमी से संबंधित हैं और इन समस्याओं का मूल कारण बढ़ता हुआ कट्टरपंथ है। अफगानिस्तान में हाल के घटनाक्रम ने इस चुनौती को और स्पष्ट कर दिया है। इस मुद्दे पर SCO को पहल कर कार्य करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि यदि हम इतिहास पर नजर डालें तो पाएंगे कि मध्य एशिया का क्षेत्र मॉडरेट और प्रगतिशील संस्कृति और मूल्यों का गढ़ रहा है। सूफीवाद जैसी परम्पराएं यहां सदियों से पनपीं और पूरे क्षेत्र और विश्व में फैलीं।

पीएम मोदी ने कहा कि इनकी छवि हम आज भी इस क्षेत्र की सांस्कृतिक विरासत में देख सकते हैं। मध्य एशिया की इस ऐतिहासिक धरोहर के आधार पर SCO को कट्टरपंथ और चरमपंथ से लड़ने का साझा टेम्पलेट डेवलप करना चाहिए।

इस दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत में और SCO के लगभग सभी देशों में इस्लाम से जुड़ी मॉडरेट, टॉलरेंट और इन्क्लूसिव संस्थाएं और परंपराएं हैं। SCO को इनके बीच एक मजबूत नेटवर्क विकसित करने के लिए काम करना चाहिए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने SCO में 20वीं वर्षगांठ का भी जिक्र किया और इसमें नए सदस्यों ईरान का स्वागत किया। साथ डायलॉग पार्टनर सऊदी अरब, इजिप्ट और कतर का भी स्वागत किया।