सुकमा में सुरक्षा बलों के बेस कैंप पर हमला, फायरिंग में तीन की मौत

naxalite-attack-in-sukma

सुकमा। छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले के सरहदी गांव सिलगेर में सुरक्षाबलों के नए बेस कैम्प का विरोध कर रहे ग्रामीणों ने सोमवार को कैंप पर हमला कर दिया। इस दौरान हुई फायरिंग में तीन लोगों की मौत हुई है। उल्लेखनीय है कि तीन दिन पूर्व भी इस कैम्प को हटाने की मांग को लेकर ग्रामीण विरोध में आये थे, जिसे पुलिस प्रशासन ने समझाकर लौटा दिया था।

पुलिस का दावा है कि फायरिंग में मारे गए लोग नक्सली हैं। हालांकि अभी तक किसी की शिनाख्त नहीं हुई है। मामला सुकमा-बीजापुर जिले के सीमावर्ती इलाके में तरेम थाना क्षेत्र का है। सूत्र बताते हैं कि इस विरोध में सिंगावरम, सिमलीपेटा, बोडकेल, करकेमगुड़ा, सिंगलेर, उडसेगेल, मेडिल, चिन्नागेल्लुर व पेद्दागेल्लूर के लोग शामिल हैं।

बस्तर आईजी सुंदरराज पी. का दावा है कि नक्सलियों ने ग्रामीणों की आड़ में कैम्प पर धावा बोला था। जवाबी कार्रवाई में तीन नक्सली ढेर हुए हैं। उन्होंने बताया कि सिलगेर में 12 मई को नए कैम्प को स्थापित किया था, जिसका विरोध ग्रामीण कर रहे थे। उन्हें लगातार समाझाया भी जा रहा था। लेकिन सोमवार की दोपहर ग्रामीणों की भीड़ के साथ आये जगरगुंडा कमेटी के नक्सलियों ने कैंप पर फायरिंग करनी शुरू कर दी।

इस पर फोर्स ने एक्शन लिया। इसके बाद सर्चिंग की गई तो तीन शव बरामद हुए। इनमें किसी की शिनाख्त नहीं हो पाई है। उन्होंने कहा कि कैम्प और सुरक्षाबल के जवान पूरी तरह से सुरक्षित हैं।

जानकारी के अनुसार, नक्सली ग्रामीणों की मदद से बीते 14 मई से ही कैम्प खुलने का विरोध कर रहे हैं। सोमवार को हजारों की संख्या में ग्रामीण की भीड़ के साथ आये नक्सलियों ने कैम्प पर हमला कर दिया। सुरक्षाबलों की ओर से कार्रवाई की गई, जिसमें तीन व्यक्ति मारे गए।