हाथरस गैंगरेप की पीड़िता ने 15 दिन बाद दिल्ली के अस्पताल तोड़ा दम

 

उत्तर प्रदेशके हाथरस में गैंगरेप पीड़िता दलित युवती की दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई है. चंदपा थाना क्षेत्र की रहने वाली दलित युवती के साथ 14 सितंबर को गैंगरेप की घटना हुई थी. गैंगरेप के बाद उसके ऊपर जानलेवा हमला किया गया था. इसके बाद उसे अलीगढ़ के जेएन मेडिकल में भर्ती कराया गया था. कल ही उसे सफदरजंग रेफर किया गया था.

परिवार से मिली जानकारी के अनुसार, युवती का शव शाम तक गांव लाया जाएगा. उसके बाद उसका अंतिम संस्कार किया जाएगा. गौरतलब है कि थाना चंदपा क्षेत्र के एक गांव में 19 साल की एक दलित युवती के साथ यह घिनौनी वारदात 14 सितम्बर को तब घटी थी, जब युवती पशुओं का चारा लेने के लिए अपनी मां के साथ खेत पर गयी थी.

आरोप है कि गांव के ही चार दरिदों ने उसे एक खेत में खींचकर गैंग रेप का शिकार बना डाला और हमला करके उसे जान से मारने की कोशिश की गई. युवती गंभीर रूप से घायल हो गई. आनन-फानन में उसे अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कॉलेज में भर्ती किया गया. हालत बिगड़ता देख उसे सफदरजंग रेफर किया गया, जहां उसकी मौत हो गई .

इस वारदात से आक्रोशित दलित समाज के लोगों ने जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन किया था. पुलिस ने एक-एक करके वारदात के सभी चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. इलाके के थानेदार को लाइन हाजिर कर दिया गया है. रविवार को भीम आर्मी व आजाद समाज पार्टी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद पीड़िता से मिलने अलीगढ़ आए थे.

मामले में सभी चार आरोपी जेल में हैं. पीड़िता दलित जाति से थी, वहीं सभी आरोपी कथित रूप से उच्च जाति से संबंध रखते हैं. 20 साल की पीड़िता पर 14 सितंबर को राजधानी दिल्ली से लगभग 200 किमी दूर स्थित हाथरस के एक गांव में हमला किया गया था. आरोपियों ने उसे उसके दुपट्टे से खींचकर खेतों में ले जाया गया था. वो अपने परिवार के साथ घास काट रही थी.

पीड़िता के परिवार का आरोप है कि यूपी पुलिस ने उनकी शिकायत पर पहले कोई एक्शन नहीं लिया, लेकिन मामले पर गुस्सा बढ़ने लगा, जिसके बाद पुलिस हरकत में आई.