रामविलास पासवान ने वीपी सिंह से नरेंद्र मोदी तक, 6 प्रधानमंत्रियों के साथ किया काम, हर बार बनाया इतिहास

बिहार की सियासत के बेताज बादशाह कहे जाने वाले रामविलास पासवान का गुरुवार को देर शाम निधन हो गया .  रामविलास पासवान बिहार के ऐसे एकलौते नेता हैं, जो 9 बार सांसद और सात बार केंद्र में मंत्री रहे. उनको देश के छह प्रधानमंत्रियों के साथ काम करने का मौका भी मिला.

केंद्र में जब भी रामविलास पासवान मंत्री बने तो उन्होंने ऐसे काम किए हैं, जिससे सरकार की प्रतिष्ठा बढ़ी तो सत्ताधारी पार्टी के जनाधार में भी इजाफा हुआ. रामविलास पासवान 1977 में पहली बार सांसद बने. इसके बाद उन्होंने पलटकर नहीं देखा. इसके बाद 1980, 1989, 1996, 1998, 1999, 2004 और 2014 में जीत दर्ज हासिल करने में कामयाब रहे. उन्होंने 1991 के लोकसभा चुनाव में जनता दल के टिकट पर रोसड़ा लोकसभा क्षेत्र से जीत दर्ज की थी. इंदिरा गांधी की हत्या के बाद हुए चुनाव में उन्हें हाजीपुर सीट से 1984 और फिर 2009 में हार का सामना करना पड़ा था.

केंद्र में बने सात बार मंत्री

रामविलास पासवान सात बार केंद्र सरकार में में मंत्री बने, इनमें दो बार अटल बिहारी वाजपेयी और दो बार मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार में मंत्री रहे. 1989 से लेकर अब तक चंद्रशेखर और वीपी नरसिम्हा राव की सरकार को छोड़कर केंद्र में जिस दल की भी सरकार बनी, उसमें रामविलास पासवान  मंत्री बनना जरूर बने हैं. विश्वनाथ प्रताप सिंह, एचडी देवेगौड़ा, इंद्र कुमार गुजराल, अटल बिहारी वाजपेयी, डॉ मनमोहन सिंह और नरेंद्र मोदी सरकार में पासवान मंत्री रहे हैं.