मोहन भागवत ने बीजेपी- शिवसेना को दी नसीहत, स्वार्थ काफी खराब चीज… आपस में लड़ने से दोनों को नुकसान

महाराष्ट्र की राजनीति में उठापटक का दौर चल रहा है। तीस साल पुरानी शिवसेना और बीजेपी की दोस्ती टूट चुकी है। विधानसभा चुनाव के नतीजों के तकरीबन एक महीने होने को हैं और सरकार पर सस्पेंस बना हुआ है। इस बीच राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर संघचालक मोहन भागवत ने इशारों-इशारों में बीजेपी और शिवसेना को नसीहत दी है। भागवत ने कहा कि अपने स्वार्थ को बहुत कम लोग छोड़ते हैं।

मोहन भागवत ने नागपुर में एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि सब जानते हैं कि स्वार्थ बहुत खराब बात है लेकिन अपने स्वार्थ को बहुत कम लोग छोड़ते हैं। देश का उदाहरण लीजिए या व्यक्तियों का। सब मानव जानते हैं कि प्रकृति को नष्ट करने से हम नष्ट हो जाएंगे। पर प्रकृति को नष्ट करने का काम थमा नहीं। सब जानते हैं कि आपस में झगड़ा करने से दोनों की हानि होती है लेकिन आपस में झगड़ा करने की बात अभी तक बंद नहीं हुई।

 

भागवत के इस बयान को शिवसेना और बीजेपी दोनों के लिए नसीहत के रूप में देखा जा रहा है। मुख्यमंत्री पद पर अड़े रहते हुए एनडीए को विधानसभा चुनाव में बहुमत मिलने के बावजूद शिवसेना ने बीजेपी का साथ छोड़ दिया। वहीं, बीजेपी की तरफ से भी फिलहाल दोस्ती की कोई कोशिश नहीं दिख रही है। शिवसेना लगातार कह रही है कि मुख्यमंत्री उसी का होगा।


बता दें कि राज्य में विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद सरकार बनाने को लेकर दोनों ही दलों के बीच खींचतान देखने को मिली है। शिवसेना ने