‘बिहार में फ्री वैक्सीन’ वाले वादे पर घिरी BJP, विपक्ष ने पूछे ये सवाल

नई दिल्ली: Bihar Assembly Elections 2020 के लिए भारतीय जनता पार्टी ने गुरुवार को अपना चुनावी मेनिफेस्टो  (Election Manifesto) जारी किया है, लेकिन अपने मेनिफेस्टो में एक वादे को लेकर बीजेपी बुरी तरह घिर गई है. पार्टी ने जीत के बाद बिहार में हर किसी के लिए फ्री कोरोनावायरस वैक्सीन (Free Coronavirus Vaccine) का वादा किया है. बीजेपी के इस वादे पर वैक्सीन को राजनीतिक एजेंडा के लिए इस्तेमाल करने के सवाल उठने लगे हैं. पार्टी का मेनिफेस्टो जारी करते हुए केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था, ‘जैसे ही कोविड-19 वैक्सीन का बड़े स्तर पर प्रोडक्शन शुरू हो जाएगा, बिहार में हर शख्स को फ्री वैक्सीन मिलेगा. हमारे चुनावी मेनिफेस्टो में यह हमारा पहला वादा है.’

भारत सहित दुनिया भर में कोरोनावायरस की वैक्सीन डेवलप करने की तमाम कोशिशें हो रही हैं. लेकिन ऐसा पहली बार है कि अभी लॉन्च हुए बिना ही कोरोना वैक्सीन को किसी राजनीतिक पार्टी ने अपने चुनावी मेनिफेस्टो में शामिल किया है. हालांकि, बीजेपी अब इसपर सवालों का सामना कर रही है. विपक्षी पार्टियों सहित सोशल मीडिया पर भी लोगों ने इसपर सवाल उठाए हैं.

अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी ने एक ट्वीट में कहा, ‘गैर-बीजेपी शासित राज्यों का क्या? क्या जिन भारतीयों ने बीजेपी को वोट नहीं किया, उन्हें फ्री में कोविड वैक्सीन नहीं मिलेगी?’

केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी चौबे को भी इस सवाल का सामना करना पड़ा. इसपर रिपोर्टर्स के सामने उन्होंने कहा कि ‘कोरोना वैक्सीन पूरे विश्व में तैयार की जा रह है. जब यह बन जाएगी, तो हमने इसके समान बंटवारे के लिए एक विस्तृत प्लान बनाया है, किसको प्राथमिकता देनी है, वगैरह वगैरह. हर राज्य को कोरोनावायरस वैक्सीन फ्री में मिलेगी.’

सोशल मीडिया पर लोगों ने #vaccineelectionism हैशटैग भी यूज़ करना शुरू कर दिया. कांग्रेस नेता जयवीर शेरगिल ने ट्वीट किया, ‘बीजेपी ऐसी अकेली राजनीतिक पार्टी होगी जिसे कोविड वैक्सीन लोगों को जान बचाने और उनके अधिकार के बजाय चुनावी लॉलीपॉप लगता है. ये लोगों का अधिकार है, कोई शर्तिया चुनावी लाभ नहीं. कोविड के साथ-साथ बीजेपी की मानसिकता का इलाज भी जरूरी है.’

नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता उमर अब्दुल्ला ने एक ट्वीट में लिखा, ‘क्या बीजेपी वैक्सीन के लिए पार्टी के खजाने से पैसे देगी? अगर यह सरकारी खजाने से आ रहा है तो फिर बिहार को अकेले कैसे फ्री वैक्सीन मिलेगी, और बाकी देश को पैसे देने होंगे? कोविड को लेकर फैले डर का फायदा उठाने वाले बीजेपी के इस तगड़े लोकलुभावनवाद कदम के साथ कितना कुछ गलत है.’

वहीं हमलों के बचाव में सामने आए बीजेपी के आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने कहा कि ‘बीजेपी का मेनिफेस्टो फ्री कोविड वैक्सीन का वादा करता है. हर कार्यक्रम की तरह केंद्र भी सारेराज्यों को एक औसत मूल्य पर वैक्सीन देगा. यह राज्य सरकारों को तय करना है कि वो इसे फ्री में देंगी या बेचेंगी. चूंकि स्वास्थ्य राज्य का मुद्दा है, ऐसे में बिहार बीजेपी ने इसे फ्री में देने का वायदा किया है. सिंपल.’

बता दें कि सरकार ने अभी तक वैक्सीन की कीमत को लेकर उठे सवालों का जवाब नहीं दिया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैक्सीन के स्टोरेज और वितरण को लेकर कई बैठकों में हिस्सा लिया है.