पीएमएल-एन के नेता अयाज़ सादिक का बड़ा बयान, ‘भारत हमला करने वाला है’ सुनकर पाक सेना प्रमुख के कांपने लगे थे पैर, तब हुई थी अभिनंदन की रिहाई

इस्लामाबाद: फरवरी 2019 में जब पाकिस्तान ने भारतीय वायु सेना के पायलट विंग कमांडर अभिनंदन वर्द्धमान  को बंधक बना लिया था, तब पाकिस्तान में एक उच्च स्तरीय मीटिंग में तत्कालीन विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने बताया था कि भारत पाकिस्तान पर हमला करने वाला है. यह सुनकर मीटिंग में मौजूद पाक सेना प्रमुख जनरल क़मर जावेद बाजवा के पैर कांपने लगे थे. यह दावा पाकिस्तान के एक सांसद ने किया है. बतौर सांसद उसी मीटिंग में इमरान खान सरकार ने विंग कमांडर अभिनंदन को रिहा करने का फैसला लिया था.

पाकिस्तानी संसद नेशनल असेंबली में एक भाषण में, पाकिस्तान मुस्लिम लीग-एन के नेता अयाज़ सादिक ने कहा कि विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने एक महत्वपूर्ण बैठक में कहा था कि अगर पाकिस्तान ने विंग कमांडर वर्द्धमान को रिहा नहीं किया, तो भारत पाकिस्तान पर रात 9 बजे तक हमला कर देगा.

पीएमएल-एन नेता ने विपक्षी नेताओं को बताया कि शाह महमूद कुरैशी ने संसदीय नेताओं की एक बैठक, जिसमें पीपीपी और पीएमएल-एन के नेता और सेना प्रमुख जनरल क़मर जावेद बाजवा भी शामिल थे, में विंग कमांडर वर्द्धमान को मुक्त करने के लिए कहा था.

उन्होंने कहा, “मुझे याद है कि शाह महमूद कुरैशी उस बैठक में थे जिसमें इमरान खान ने भाग लेने से इनकार कर दिया था और सेनाध्यक्ष जनरल बाजवा कमरे में आए थे, उनके पैर काँप रहे थे और उन्हें पसीना आ रहा था. विदेश मंत्री ने कहा था, अभिनंदन वर्द्धमान को जाने दीजिए, नहीं तो रात 9 बजे तक भारत पाकिस्तान पर हमला करने वाला है.”

पाकिस्तान के अखबार ‘दुनिया न्यूज’ ने सादिक के हवाले से लिखा है कि तब विपक्षी सांसदों ने कहा था कि विंग कमांडर वर्द्धमान सहित सभी मुद्दों पर सरकार का समर्थन किया है, लेकिन अब आगे समर्थन नहीं कर पाएंगे.

बता दें कि पुलवामा में सीआरपीएफ टुकड़ी पर आतंकी हमला के बाद भारत ने जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों को ध्वस्त करने के लिए एयरस्ट्राइक किया था, इसके अगले दिन पाक लड़ाकू विमान F-16 को भारत ने मार गिराया था. एक अन्य लड़ाकू विमान को खदेड़ रहे अभिनंदन वर्द्धमान के लड़ाकू विमान को नीचे गिरा दिया गया था और उन्हें बंधक बना लिया गया था. पाकिस्तान ने बाद में उन्हें रिहा कर दिया था. वर्द्धमान 1 मार्च, 2019 को अटारी-बाघा बॉर्डर के रास्ते वापस आए थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *